TRENDING NOW

Indian Books

indiBooks : Do you briefly introduce yourself in your own words?
Deepak Kumar :  My Name is Deepak Kumar Pandey from Bangalore. Basically , I am from uttar Pradesh Lucknow.

indiBooks : When was your first book published?
Deepak Kumar : My first Book Published on 6th Sep 2018.

indiBooks : Tell us something about the first book? 
Deepak Kumar : SoIn month of September ,From all tough time, Finally time came to smile and I released my first book “A journey : Steps to success” on 6-Sep-2018. My book successfully delivered in more than 13 cities in India and USA also.

If I talk about in the poem . My Latest Piece in poem is “ONLINE WALA PYAR”

Poem Link : https://www.youtube.com/watch?v=DDT0gbyADCE

indiBooks : Will you share the publication experiences?
Deepak Kumar : Yes, Ofcourse ! My publication experiences was very nice and they are very much helpful and they are very supportive. when I thought of writing a book till then I was not much aware of book publishing but they had guided me in each and every steps. It was a pretty good experience for me...

indiBooks : How many books have been published so far?
Deepak Kumar : So I have published only one book “A journey : Steps to Success” and participated in 3 anthology where my poems are selected and published.

indiBooks : How do you manage time to write a book?
Deepak Kumar : Since , for writing is not any task which I have to complete it with given deadline or any specific time-schedule. It’s my passion and what I feel passion rolls in mind all the time. when I am free, I used to write. I have not scheduled any specific time for writing.

indiBooks : Who is your Ideal Writer? Would you like to share his name with our readers?
Deepak Kumar : My Ideal writer is Robert. T. Kiyosaki and I had read his book Rich Dad Poor Dad.

indiBooks : The greatest achievement of your life that you want to share with our readers?
Deepak Kumar : My greatest achievement is only my writing skills through which I have achieved so many things in my life. I had performed in Talent show platform Nojoto open mic. My Poem got selected in Atkt.in as well. I have delivered my published book in 13 cities in India and U.S.A as well.

indiBooks : How did publishers collaborate and experience in the book publication journey?
Deepak Kumar : Earlier, I was writing my daily life like some happy moments, some challenging days, or sad time when was unable to manage anything and later I started to write Quote / shayri . But A few years ago I started to listen Poems and that was big time for me to turn into a professional writer. Before that it was just a hidden dream inside me and even I was not much aware of it. When I was in my college I used to write my daily life and I had never thought that i will be a Author in coming time. So people were very much shocked when I revealed my first book releasing date. So I am going to share my story that how I made myself from a normal boy into Author. One day I was checking some book in E-commerce site and all of sudden I started thinking about book publishing and stared research on it. I had searched so many online Publisher website and I had requested one call back from Publisher and soon I got call back . Mr. xxx was on call, who helped me a lot to make my Dream into Reality. I hope people don’t know that interesting story about me.

indiBooks : Would you like to tell such an incident of your life which has inspired you and is also inspiring for readers?
Deepak Kumar : My  heart said to me : “I want to be a writer!”
From my childhood I am very much fond of two things, one is reading books and second I like to travel to a new city. when I joined my College at that time I started to write some shayari and and later when I read “Questions are the Answer” by Allen Pledge. I was so motivated myself, after that I read so many motivational books. This was the time when I changed a lot in terms of the way of thinking, Imagination. I started to make my dream list and so and so. I thought that I will try to write my autobiography and started research on it. How to publish a book? As searched on Google and  I had requested call back to my publisher and One of the team members from my publisher called and informed me the complete procedure to publish a book. Finally I have started working on my First Book. After so many efforts and with the help of my Publication we decided to release my book on 6-Sep-2018.

indiBooks : Want to give a message to your readers and fans?
Deepak Kumar : I am Currently working on my Next Book . It’s Hindi Version of my first released book (“A journey: Steps to success”)
What I believe that if you are already published your book and working on your upcoming book, so reader always matters. Thank you, so much amazing love and support, from all readers and my fan following. Their love, support, feedback about your book makes you more motivated to write your next book.
When I published my first book “A Journey: Steps to success”. I got so many lovely response and support from my friends, colleagues, family. My book successfully delivered in more than 13 cities in India. I got so many requests from North India that Kindly publish this book in Hindi language also.




Indian Books

Currently, the best seller author has captured the hearts of readers by writing novels on topics like Ishq, Action and Thrill. At the same time, Soma Bose, author of Zameen - the Land, has made the most out of these farmers the main subject of his novel. Our team met Soma and had an interview. She very politely answered our questions and said that the farmer is the annadata of our country. So I thought that everyone is writing on love and adventure, but no one is writing on farmers. Many congratulations to Soma from indiBooks and We wish God that this novel be the best seller.. Here are some excerpts from your conversation with Soma.


indiBooks : Do you briefly introduce yourself in your own words?
Soma Bose : Writing is my passion from very beginning, first started with small articles on Indian Express, Pune (In the year 1996-97), later started writing some online poems and micro flash stories(Published on Friday flash fiction, 100words.com, Indus woman writing, High on poems). I also published a story through Amazon-kindle named “Between the lips and a cup of tea” (e-book). I completed Hons graduation in political sc in early nineties from Kolkata University, later completed post graduation diploma in computer science from Uptron-Acl, Kakurgachi, Kolkata. I also designated with a post of computer Instructor in Central Modern School, Dum Dum Cant(Kolkata). From very beginning I was fond of reading novels and stories and I often used to attend National Library, Alipore, Kolkata as a reader-member. Later on, my passion of reading turned into a passion of writing also. After my marriage I settled in Pune and I got a scope to write down some articles on Indian Express, Pune with its feature editor smt. Vinita Deshmukh.

indiBooks : Tell us something about the first book?
Soma Bose : Zameen- The Land is my first published paperback book. In this book, readers will discover the replica of ‘Farmer class’ in our country, specially they will be well versed with the circumstances which many farmers in our country face in real but I composed the story from my own imagination where all characters, places and the narrated incidents represented just my own thinking, not any real fact happened in any part of our country.

indiBooks : Where did you get inspiration for first book publishing?
Soma Bose : In our country, more than sixty percent people still reside in village, so I choose to write their stories. It is little bit different from modern trend of fantacy and typical love story.

indiBooks : How long did it take you to write 'Zameen - The Land'?
Soma Bose : Almost six months as every word I written so carefully and after deep thought I penned down the words.

indiBooks : We know that you have given too much time for 'Zameen -the land'. Can you tell us how your routine was while writing this book?
Soma Bose : I am a busy house-wife, so time frame was very much restricted after a whole day’s tidy work, I used to manage my own time of writing.

indiBooks : 'Zameen -The Land' is your first printed self published book. How much support did your family and friends get for this?
Soma Bose : My family supported me a lot, specially my two sons who still Inspire me a lot.

indiBooks : The greatest achievement of your life that you want to share with our readers?
Soma Bose : Obviously it was when my one article published first time on ‘Indian Express’ jointly with Smt. Vinita Deshmukh in the year of 1996-97, Vinitaji was the feature editor of ‘Indian Express’, Pune. She inspired me a lot.

indiBooks : Would you like to tell such an incident of your life which has inspired you and is also inspiring for readers?
Soma Bose : Actually very few of my friends know me as a writer because I never unnecessarily introduced myself as a writer in front of them because I always think those who are in touch of writing world and have good reading habit will recognize me one day, I should be self campaigner of myself specially near them who are bias of being optimistic concerning their own knowledge. One of them one day questioned me about my qualification, my knowledge Of literature and at that time I remained quiet but later he recognized me as a writer. This incident learnt me a lot that ‘Not my words, my work will realize them my real culture.’

indiBooks : How did publishers collaborate and experience in the book publication journey?
Soma Bose : Prachi Digital Publication really means a lot of worth to me in real. Not only my work but their hard work, honesty contributed a lot.

indiBooks : Want to give a message to your readers and fans?
Soma Bose : Yes, if u have good reading and writing habit, never give up.

indiBooks : What do you want to say about the future of world of Novel?
Soma Bose : Penning down a novel is not a child’s play, it is a passion, hard work, a thoughtful innovation of every writer. Previously, it was the only work of paper and pen and now digital transformation happened. But the value of reading and writing of novel remains same and readers should evaluate one thing that every novel can not be judged through its application in movies, dramas, many of them still are in form of printed books, e-books. If readers spare some moments to read the novels, if their reading habit grows, the future of novel world will sparkle more.

indiBooks : Would you like to remain in the writing world even in future?
Soma Bose : Yes, obviously, till my last life.




Indian Books

About the Book 

‘आकाश और भी’ लेखक डॉ. चन्द्रभाल सुकुमार का हिन्दी गजलों का नवीनतम संग्रह है। इस संग्रह में डॉ. सुकुमार द्वारा लिखित 85 चुनिन्दा व खास गज़लों का संकलन है। यदि आप गज़लों के शौकिन है तो आपको डॉ. सुकुमार के इस संग्रह को जरूर पढ़ना चाहिए। डॉ. सुकुमार गजलों का एक संग्रह ‘आदमी अरण्यों में’ हाल ही में प्रकाशित हुआ था, जिसे पाठकों द्वारा सबसे ज्यादा पसंद किया गया।

 About the Author

लेखक डा. चन्द्रभाल सुकुमार पूर्व न्यायाधीश एवं साहित्यकार है। उनकी अब तक दजर्नों पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी है। दो दर्जन से अधिक सह-संकलनों में रचनाएं संकलित, प्रमुख पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित एवं आकाशवाणी के विभिन्न केन्द्रों से प्रसारित। शताधिक साहित्यिक, सांस्कृतिक, न्यायिक एवं सामाजिक संस्थाओं द्वारा सम्मानित/अलंकृत।
आपकी डॉ0 भीमराव अम्बेडकर विश्वविद्यालय, आगरा द्वारा ‘‘समकालीन हिन्दी गजल को चन्द्रभाल सुकुमार का प्रदेय’’ विषयक शोध प्रबन्ध पी.एच.डी. हेतु स्वीकृत है। काव्यायनी साहित्यिक वाटिका (तुलसी जयंती, 1984) के संस्थापक-अध्यक्ष है। 35 वर्षों की न्यायिक सेवा के उपरांत जनपद न्यायाधीश, इलाहाबाद के पद से 2010 में सेवा निवृत्त होने के बाद 2011 में राज्य उपभोक्ता विवाद प्रतितोष आयोग, उ0 प्र0 लखनऊ में वरिष्ठ न्यायिक सदस्य के पद पर नियुक्त एवं प्रभारी अध्यक्ष के पद से 2016 में सेवा-निवृत्त।

Description of Book

Author
डा. चन्द्रभाल सुकुमार
ISBN
978-93-87856-84-4
Language
Hindi
Binding
Paperback
Genre
Ghazal
Pages
96
Publishing Year
2019
Price
94.00
indiBooks Rating
★★★★☆ (4.9)
Publisher
Prachi Digital Publication

इस पुस्तक को यहां से प्राप्त कर सकते हैं-

BOOK STORE’S
BOOK FORMAT
BUY LINK
Paperback
Paperback
Paperback
Paperback



Indian Books

इस बार indiBooks आपकी मुलाकात मोना कपूर जी से कराने जा रहा है। नई दिल्ली निवासी मोना जी की अब तक तीन पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी है। उन्होंने हमारे साथ पुस्तक प्रकाशन के अपने अनुभवों को भी साझा किया। मोना जी हम आपका तहेदिल से शुक्रिया करते है, आपने साक्षात्कार के लिए अपना समय दिया। आईये आपके लिए पेश हैं मोना जी के साथ वार्ता के कुछ विशेष अंश-

indiBooks : आपका संक्षिप्त परिचय आपके शब्दों में ?
मोना कपूर : मेरा जन्म नरेला में हुआ था। मैं मध्यम वर्गीय परिवार से हूं, मेरी शिक्षा दिल्ली में, बी.एड की शिक्षा मेरठ से व एम.ए की शिक्षा हिमाचल से हुई। मैं एक गृहिणी हूं व लेखन मेरा शौक है।

indiBooks : आपकी पहली पुस्तक कब प्रकाशित हुई थी ?
मोना कपूर : मेरी पहली पुस्तक नवंबर 2018 में प्रकाशित हुई।

indiBooks : पहली पुस्तक के विषय के बारे में कुछ बताएं ?
मोना कपूर : मेरी पहली पुस्तक ‘प्रयास’ एक लघुकथा संग्रह है जिसमें 6 लघुकथाएं संकलित है।

indiBooks : पुस्तक प्रकाशन के लिए आपको प्रेरणा कहां से मिली ?
मोना कपूर : अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाने का मेरा सपना था और मेरे सपने ही मेरी प्रेरणा बने।

indiBooks : क्या आप पुस्तक प्रकाशन के अनुभवों को साझा करेंगी ?
मोना कपूर : शुरुआत में मुझे कुछ दिक्कतों का सामना करना पड़ा, लेकिन धीरे-धीरे सब आसान सा लगता गया। कुल मिलाकर यह अनुभव काफी अच्छा रहा।

indiBooks : अब तक आपकी कितनी पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी है ?
मोना कपूर : अब तक मेरी तीन पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी है जिसमें से “प्रयास” मेरा एकल संकलन है और इसके अलावा मेरी दो अन्य पुस्तकें ‘RooबRoo’ व ‘ऑनलाइन Woमनिया’ सांझा संकलन है।

indiBooks : स्वयं की प्रकाशित पुस्तकों में आपकी सबसे पसंदीदा पुस्तक कौन सी है और क्यों ? 
मोना कपूर : मेरी पसंदीदा पुस्तक ‘ऑनलाइन Woमनिया’ है क्योंकि इस पुस्तक में 32 ऐसी महिलाओं के द्वारा लिखी गई कहानियां हैं जो कि आज तक एक दूसरे से नही मिली लेकिन दूर होते हुए भी एक दूसरे के दिलों में बसती है। इसमें लिखी हर एक कहानी मेरे दिल के करीब है।

indiBooks : आपकी पुस्तक ‘प्रयास’ पुस्तक के किरदार और घटनाएं किससे प्रेरित है ?
मोना कपूर : ‘प्रयास’ के किरदार व घटनाएं मेरे आसपास के लोगों के जीवन में घटित घटनाओं से प्रेरित है व इसमें प्रकाशित कुछ लघुकथाएं काल्पनिक भी है।

indiBooks : आपकी पुस्तक ‘प्रयास’ को लिखने में आपको कितना समय लगा ?
मोना कपूर : लगभग 3 से 4 माह।

indiBooks : आप लेखन के लिए समय कैसे निकालती हैं ?
मोना कपूर : एक गृहिणी होने के नाते मेरे लिए दिन में समय निकालना थोड़ा कठिन होता है इसीलिए मैं अक्सर रात में लेखन करती हूं।

indiBooks : आपकी पसंद की लेखन विधा कौन सी है ?
मोना कपूर : मेरी लेखन की पसंदीदा विद्या कहानी है। इसके अलावा मै कविता, लेख भी लिखती हूं।

indiBooks : क्या आपका कोई Ideal लेखक या लेखिका है ? क्या उसका नाम पाठकों को बतायेंगे?
मोना कपूर : मुंशी प्रेमचंद जी मेरे आइडियल लेखक हैं व उनके बाद एक और बेहतरीन लेखिका जो कि मेरी खास सहेली भी है जिनका नाम “कविता जयंत श्रीवास्तव”है, मेरे जीवन में एक आइडियल लेखिका की भूमिका अदा करती हैं।

indiBooks : आपकी पसंद की पुस्तकें जिन्हें आप बार-बार पढ़ती है ? 
मोना कपूर : जी समय मिलने पर मै मुंशी प्रेमचंद जी के उपन्यास पढ़ना पसंद करती हूं।

indiBooks : जीवन की सबसे बड़ी उपलब्धि जिसे आप पाठकों के साथ शेयर करना चाहेंगी ?
मोना कपूर : लेखन की ओर पहल करना।

indiBooks : पुस्तक प्रकाशन के सफर में प्रकाशकों का कितना सहयोग मिला और प्रकाशकों के साथ कैसा अनुभव रहा ?
मोना कपूर : मेरी तीनों पुस्तकें एक ही प्रकाशक से प्रकाशित हुई है व उनसें मुझे काफी बेहतर सहयोग मिला। कुल मिलाकर यह अनुभव काफी रोमांचक रहा।

indiBooks : क्या आप अपने जीवन की ऐसी घटना बताना चाहेंगे, जो जिससे आपको प्रेरणा मिली हो और पाठकों के लिए भी प्रेरणादायक हो ?
मोना कपूर : मेरे जीवन में काफी उतार चढ़ाव आये लेकिन हिम्मत न हारते हुए परिवार का सहयोग व कलम का साथ लेकर मैंने खुद को संभाला। मै सबको यही कहना चाहूंगी कि कभी भी अपने जीवन में आने वाली परेशानियों से हारे नही, सदैव सकरात्मक सोच रखे। हम सब मे कुछ न कुछ हुनर अवश्य होता है बस देर है तो उसे पहचानने की, इसीलिए कभी भी हिम्मत नहीं हारे, आगे बढ़ते जाए, उम्मीद की किरण अवश्य दिखेगी।

indiBooks : हिन्दी साहित्य के भविष्य को लेकर आप क्या कहना चाहेंगी?
मोना कपूर : हिंदी साहित्य के उज्जवल भविष्य के लिए हमें और जागरूक होने की आवश्यकता है और यह प्रयास हम सब को मिलकर करना होगा।

indiBooks : अपने पाठकों और प्रशंसकों लिए कोई संदेश देना चाहेंगे ?
मोना कपूर : पुस्तकें हमारी सच्ची मित्र होती है इन्हें पढ़ने की आदत डालें, ज्यादा से ज्यादा पुस्तकें पढ़िये इससे हिंदी साहित्य का ज्ञान भी मिलेगा।

indiBooks : वर्तमान में कोई किताब लिख रहीं है या भविष्य में कोई योजना ?
मोना कपूर : जी हाँ, भविष्य में एक नॉवेल लिखने की योजना बना रही हूं।



Why Read this Book

"Prayas..." is a collection of short stories which relates with the real life that everyone faces. Sometimes these stories will make you think emotionally and sometimes it will show the hidden face of our society. So what are you waiting for? Read the complete book and give your valuable feedback to the author.


Indian Books

About the Book 

Lose yourself in this epic adventure thriller, based on the Ramayana, the story of Lord Ram, written by the multi-million bestselling Indian Author Amish; the author who has transformed Indian Fiction with his unique combination of mystery, mythology, religious symbolism and philosophy. In this book, you will find all the familiar characters you have heard of, like Lord Ram, Lord Lakshman, Lady Sita, Lord Hanuman, Lord Bharat and many others from Ayodhya. And even some from Lanka like Ravan! Read this BESTSELLER, the highest selling book of 2015, the first book of the Ram Chandra Series.

Awarded the 2015 Raymond Crossword Award for Popular Choice (English Fiction)

Ram Rajya. The Perfect Land. But perfection has a price. He paid that price.

3400 BCE. INDIA

Ayodhya is weakened by divisions. A terrible war has taken its toll. The damage runs deep. The demon King of Lanka, Raavan, does not impose his rule on the defeated. He, instead, imposes his trade. Money is sucked out of the empire. The Sapt Sindhu people descend into poverty, despondency and corruption. They cry for a leader to lead them out of the morass. Little do they appreciate that the leader is among them. One whom they know. A tortured and ostracised prince. A prince they tried to break. A prince called Ram.

He loves his country, even when his countrymen torment him. He stands alone for the law. His band of brothers, his Sita, and he, against the darkness of chaos.

Will Ram rise above the taint that others heap on him? Will his love for Sita sustain him through his struggle? Will he defeat the demon Lord Raavan who destroyed his childhood? Will he fulfil the destiny of the Vishnu?

Begin an epic journey with Amish’s latest: the Ram Chandra Series.

About the Author

Amish is a 1974-born, IIM (Kolkata)-educated, boring banker turned happy author. The success of his debut book, The Immortals of Meluha (Book 1 of the Shiva Trilogy), encouraged him to give up a fourteen-year-old career in financial services to focus on writing. He is passionate about history, mythology and philosophy, finding beauty and meaning in all world religions. Amish’s books have sold more than 5 million copies and have been translated into over 19 languages.

Description of Book

Author
Amish Tripathi
ISBN
978-9385152146
Language
English
Binding
Paperback
Genre
Fiction
Pages
300
Publishing Year
2015
Publisher
Jaico Publishing House





Indian Books

हमारी मुलाकात हरिद्वारा के आशीष कुमार जी से हुई। विज्ञान और अध्यात्म पर कई पुस्तके लिख चुके आशीष जी जिज्ञासु प्रवृत्ति और सरल स्वभाव के है। उन्होने हमारे साथ उनके जीवन और प्रकाशित पुस्तकों के बारे मे जानकारी शेयर की। उनके साथ वार्ता के कुछ विशेष अंश-

indiBooks : आपका संक्षिप्त परिचय आपके शब्दों में ?
आशीष कुमार : मेरा जन्म 18 सितंबर 1980 को एक छोटे पवित्र शहर हरिद्वार के मध्यम वर्गीय परिवार में हुआ था। मेरी बचपन से ही विज्ञान के प्रति रुचि थी। रात के समय, मैं ब्रह्मांड के रहस्य को समझने के लिए घंटों आकाश की ओर देखता था। मुझे स्कूल के बाद खुद से भौतिकी और रसायन विज्ञान के प्रयोग करना पसंद था। जिसमें से मैं केवल 50 प्रतिशत प्रयोग ही सही ढंग से कर पाता था। बचपन से ही मेरा दूसरा प्यार हिंदू पौराणिक कथाएँ और दर्शन थे। यहां तक कि मैं उस समय उनके बारे में ज्यादा नहीं जानता था लेकिन उन्होंने मुझे आकर्षित किया। इसका अर्थ है कि मेरा दिमाग सामाजिक जीवन के दो चरम ध्रुवीकरणों के बीच झूलता रहता था।

indiBooks : पहली पुस्तक के विषय के बारे में कुछ बताएं?
आशीष कुमार : वर्ष 2014 में मेरी पहली पुस्तक प्रकाशित हुई थी और यह एक प्रेम कहानी थी, जिसका शीर्षक 'Love Incomplete’ था।

indiBooks : पुस्तक प्रकाशन के लिए आपको प्रेरणा कहां से मिली?
आशीष कुमार : बचपन से ही मेरी दिलचस्पी किताबो को पढ़ने और नया कुछ सीखने की रही है। जब मैंने कभी कुछ सीख़ लिया तो वो समय था प्राप्त ज्ञान को अन्य लोगो तक पहुंचाना मेरे ख्याल से किताबे इसके लिए सर्वोत्तम माध्यम है।

indiBooks : क्या पुस्तक प्रकाशन के दौरान हुए खट्टे-मीठे अनुभवों को साझा करेंगें?
आशीष कुमार : शुरुवात की पुस्तकों को प्रकाशित करने में मुश्किलें हुई किन्तु बाद में सब समझ आ गया और अब सब कुछ आसान लगता है।

indiBooks : अब तक आपकी कितनी पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी है?
आशीष कुमार : अब तक सात (7) पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी है।

indiBooks : क्या आप अपनी प्रकाशित पुस्तकों के बारे में जानकारी देना चाहेंगे?
आशीष कुमार : जरूर! मेरी अब तक प्रकाशित सभी पुस्तके अलग-अलग विषयो पर है। वर्ष 2014 में मेरी पहली पुस्तक प्रकाशित हुई थी और यह एक प्रेम कहानी थी जिसका शीर्षक 'Love Incomplete’ था। 2015 में मेरी दूसरी किताब हिंदी में 'क्या है हिंदुस्तान में' शीर्षक से प्रकाशित हुई थी। वर्ष 2016 में मेरी पुस्तक 'Detail Geography of Space’ शीर्षक से प्रकाशित हुई थी। यह मेरी तीसरी पुस्तक थी, फिर मैंने अपने तरीके बदल दिए और एक और पुस्तक ‘The Ruiner’ लिखी, जिसमें मैंने हिंदू पौराणिक कथाओं के रहस्यों और हिंदू शास्त्रों के अनुष्ठानों और दर्शन को बहुत वैज्ञानिक तरीके से और कहानी के रूप में हल करने की कोशिश की। 2018 में मेरी एक और किताब हिंदी में 'सच्ची सच्चाई कुछ पन्नो में' शीर्षक से प्रकाशित हुई। मई 2109 में मेरी छठी पुस्तक प्रकाशित हुई जिसका शीर्षक 'कुछ अनोखे स्वाद और बातें' है जिसमे मैंने अपने द्वारा खोजी और बनायीं गयी खाने-पीने की चीजों और उन से जुड़ी रोचक बातो का जिक्र किया है। मेरी सातवीं पुस्तक "पूर्ण विनाशक" है।

indiBooks : आपकी नज़र में लेखन कठिन है या आसान?
आशीष कुमार : यह व्यक्ति की व्यक्तिगत रुचि पर निर्भर करता है।

indiBooks : आप लेखन के लिए समय कैसे निकालते हैं?
आशीष कुमार : मेरा कोई और शौक नहीं है केवल पुस्तके पढ़ना, नया ज्ञान प्राप्त करना और फिर अनुसंधान करके पुस्तके लिखना है।

indiBooks : आपकी पसंद की लेखन विधा कौन सी है?
आशीष कुमार : यह तो तथ्यों और हमारी आंतरिक इच्छाओ पर निर्भर करता है तो मुझे सभी विधाओं में पढ़ना और लिखना पसंद है।

indiBooks : आपके जीवन की सबसे बड़ी उपलब्धि जिसे आप सभी के साथ शेयर करना चाहते है?
आशीष कुमार : एक बार जब मैं क्वांटम भौतिकी पर एक लेख पढ़ रहा था और इसकी अनिश्चितता ने जल्द ही मेरे मन में एक पुराने हिंदू दर्शन के बारे में एक विचार उत्पन्न किया जिसे 'सांख्य' कहा जाता है और तब मैं सब कुछ भूल गया और 'सांख्य' दर्शन और क्वांटम भौतिकी के बीच की कड़ी को समझने और खोजने के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया। दिसंबर 2015 में इस विषय में मेरा शोध पत्र इंटरनेशनल जर्नल ऑफ साइंटिफिक एंड इंजीनियरिंग रिसर्च ’में थ्योरी ऑफ एनीथिंग - सांख्य दर्शन’ शीर्षक से प्रकाशित हुआ। जनवरी 2019 में मेरा दूसरा शोध पत्र अंतरराष्ट्रीय पत्रिका में प्रकाशित हुआ जिसका शीर्षक 'स्पन्दकारिका - थ्योरी ऑफ़ नथिंग' था जिसमे मैंने हमारे सौरमंडल के सारे बलों और विकिरणो को एक सूत्र में पिरोने का प्रयास किया है।

indiBooks : पुस्तक प्रकाशन के सफर में प्रकाशकों का सहयोग और अनुभव कैसा रहा?
आशीष कुमार : सब कुछ मिश्रित सा रहा।

indiBooks  : हिन्दी साहित्य के भविष्य आपकी नज़र में कैसा हैं?
आशीष कुमार : 'हिंदी में भावनाये व्यक्त होती है जबकि अन्य भाषाओ में शब्द' बस ये ही फर्क है इसलिए हिंदी में ज्यादा से ज्यादा लिखना और पढ़ना चाहिए। जिससे की सामाज का आंतरिक विकास हो सके जो केवल भौतिक दायरों तक ही सिमित न हो।

indiBooks : आप अपने पाठकों और प्रसंशकों से क्या कहना चाहेंगे?
आशीष कुमार : हर महीने कम से कम एक पुस्तक अपनी रूचि के अनुसार भौतिक रूप में सबको पढ़नी ही चाहिए, लेकिन डिजिटल रूप में नहीं।

indiBooks : भविष्य के लिए क्या योजनाएं है?
आशीष कुमार : हिन्दू शास्त्रों का ज्ञान ज्यादा से ज्यादा लोगो आसान भाषा में देना।



Why read this Book ?

वर्तमान युग के दो लड़के और दो लड़कियां हिंदू धर्मग्रंथों के पौराणिक इतिहास की खोज में हैं। उनके उद्देश्य और शौक अलग-अलग हैं। यहां तक कि उनके पेशे भी अलग हैं। वे दुनिया की सबसे आकर्षक कहानी का पता लगाने के लिए एक साथ आए हैं। हां, वे श्रीलंका में भगवान राम और लक्ष्मण के पदचिन्हों पर चलने के लिए एक साथ आए हैं। वहां वे अपने मार्गदर्शक से मिलते हैं, एक व्यक्ति जो उन्हें समझाता है और उन्हें रामायण के स्थानों की यात्रा भी कराता है, जैसे वे सभी उस युग के भाग हैं। उन्हें कुछ तथ्यों के उत्तर भी मिले, जिन्हें पहले कोई नहीं जानता था, जैसे कि:-
  • रावण क्लोन विज्ञान जानता था और अपने बेटों के 1 लाख क्लोन और अपने पोते के 1.25 लाख क्लोन बनाता है वे अब कहाँ हैं? 
  • रावण भोजन तैयार करने के लिए चंद्रमा की ऊर्जा का उपयोग करने का विज्ञान जानता था। कैसे? 
  • भगवान स्वयं को एक स्थान से दूसरे स्थान पर कैसे स्थान्तरित कर सकते थे? 
  • रावण ने इस लोक से स्वर्ग को कैसे जोड़ा था? 
  • इन्द्रजाल, मोहिनी अस्त्र, लक्ष्मण रेखा आदि के पीछे क्या विज्ञान है? 
  • देवी सीता ने स्वर्ण मृग की मांग क्यों की? 
  • भगवान हनुमान ने बाली को क्यों नहीं मारा? 
  • सीता की गीता क्या है? 
  • श्रीलंका का नाम ‘श्रीलंका’ कैसे पड़ा? 
  • दक्षिणमुखी और पंचमुखी हनुमान का क्या महत्व है? 
  • चंद्रमा पृथ्वी की परिक्रमा 15 दिनों के अंतराल के साथ क्यों कर रहा है? 
  • कालनेमि भगवान हनुमान से तेज कैसे उड़ सकता था? 
  • हथियार शक्ति, ब्रह्मास्त्र के पीछे क्या विज्ञान है? 
  • संजीवनी चिकित्सा के पीछे विज्ञान क्या है? 
  • पुष्पक विमान अलग-अलग गतियों से कैसे उड़ सकता था? 
  • क्या महाभारत के युद्ध के पीछे का कारण भगवान कृष्ण हैं? 
  • क्या हम अपने DNA में हेरफेर करके अपनी उम्र को बढ़ने से रोक सकते हैं? 
  • कर्म कैसे काम करते हैं? 
  • क्या शाप और वरदान हमारे कर्म को प्रभावित करते हैं? 
  • प्राण, चेतना और आत्मा एक ही हैं या अलग-अलग हैं? 
  • अमावस्या के पीछे क्या विज्ञान है? 
  • चंद्रमा के चरणों की देवियाँ कौन कौन सी हैं? 
  • बलिदानों के पीछे का विज्ञान क्या है? 
  • क्या कोई अन्य सूत्र E = mc2 से अधिक शक्तिशाली है? 
  • यदि हाँ, तो वह क्या है? 
  • क्या हमारे समाज में अपराध और भ्रष्टाचार के लिए अंतरजातीय विवाह जिम्मेदार है? 
  • भावनाओं का हमारे मन और शरीर पर क्या प्रभाव पड़ता है?


Indian Books

About the Book 

Keshav finds himself in a mess when his girlfriend breaks up with him. Although Zara moves on with her life, Keshav is unable to do so and resorts to drinking. He drinks every night to get over Zara and even starts stalking her on social media. But, out of the blue, on Zara’s birthday, Keshav gets a message from Zara asking him to visit her in her old hostel room 105. Will Keshav go?

About the Author

Born to an Army officer and a government servant, Chetan Bhagat’s destiny to become a writer was far from foreseen. After completing his mechanical engineering from IIT Delhi, Chetan went on to obtain his MBA from the prestigious IIM Ahmedabad. But, it wasn’t until a decade of trying to fit into the corporate way of living when Chetan decided that he needed to dedicate his life to writing. Since then, Chetan has authored several best-selling novels, such as Five Point Someone, The Girl in Room 105 and 2 States, among others. Not only did Chetan’s works inspire some hit films, such as Kai Po Che, 2 States and 3 Idiots, but they also helped him get featured in Forbes India magazine as one of the top celebrities of India (2016).

Description of Book

Author
Chetan Bhagat
ISBN
978-1542040464
Language
English
Binding
Paperback
Genre
Fiction
Pages
312
Publishing Year
2018
Price
199.00
Publisher
Amazon Publishing