Cheekhati Aawazein (Poetry Collection) by Dhruv Singh ‘Eklavya’

0
23

पुस्तक के बारे में

प्रस्तुत काव्य-संग्रह ‘चीख़ती आवाज़ें’ उन दबी हुई संवेदनाओं का अनुभव मात्र है जिसे कवि ने अपने जीवन के दौरान प्रत्येक क्षण महसूस किया। हम अपने चारों ओर निरंतर ही एक ध्वनि विस्तारित होने का अनुभव करते हैं परन्तु जिंदगी की चकाचौंध में इसे अनदेखा करना हमारा स्वभाव बनता जा रहा है। ये ध्वनियाँ केवल ध्वनिमात्र ही नहीं बल्कि समय की दरकार है। मानवमात्र की चेतना जागृत करने का शंखनाद है। यही उद्घोषणा जब धरातल पर आने की इच्छा प्रकट करती है तब कलम से स्वतः ही संवेदनायें शब्दों के रूप में एक ‘चलचित्र’ की भाँति प्रस्फुटित होने लगती हैं और मानवसमाज से एक अपेक्षा रखती है कि इन मृतप्राय हो चुके संवेदनाओं को पुनर्जीवित होने का वरदान मिले। प्राकृतिक संसाधनों का ध्रुवीकरण आज एक वृहत्त समस्या बनती जा रही है। हम अपने स्वार्थ के वशीभूत, नैतिक मूल्यों की निरंतर अवहेलना करते चले जा रहे हैं। एक तबका और अधिक धनवान होने की दौड़ में भाग रहा है जबकि दूसरा तबका निर्धन से अतिनिर्धनता की दिशा में अग्रसर है। संसाधनों का ध्रुवीकरण इसका मूल कारण है। एक तरफ ‘मज़दूर’ और दूसरी तरफ ‘स्त्री’ दोनों की दशा और दिशा आज समाज में सोचनीय है। ‘चीख़ती आवाज़ें’ काव्य-संग्रह में संकलित सभी रचनायें किसी न किसी ‘भाव’ में मानवसमाज में फैले असमानता का प्रखर विरोध करतीं हैं।

लेखक के बारे में

लेखक का जन्म १९८७ वाराणसी के एक मध्यमवर्गीय ‘कृषक’ परिवार में हुआ है। आपने विज्ञान परास्नातक, अणु एवं कोशिका आनुवंशिकी विज्ञान में विशेष दक्षता प्राप्त की है। आपका साहित्यिक जीवन काशीहिंदू विश्वविद्यालय में छात्र जीवन के दौरान प्रथम रचना ‘बेपरवाह क़ब्रें’ से साहित्यिक यात्रा का आरम्भ से प्रारम्भ हुआ है। अबतक कई राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय पत्र-पत्रिकाओं में रचनायें प्रकाशित हो चुकी है। वर्तमान में ‘एकलव्य’ और ‘लोकतंत्र’ संवाद मंच नामक ब्लॉगों का संचालन कर रहे हैं।

पुस्तक का विवरण
Author
ध्रुव सिंह ‘एकलव्य’
ISBN
978-93-87856-76-9
Language
Hindi
Page & Type
102, E-Book & Paperback
Genre
Poetry
Publish On
2018
Price
₹ 110 (Paperback), ₹ 55 (E-Book)
Publisher
Prachi Digital Publication

 

prachi

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments