Kavya Prabha

0
282

साहित्य के सभी रसों से पगी ‘काव्य प्रभा’ एक मित्र की भाँति कभी आपको गुदगुदाएगी तो कभी आपके मन-मस्तिष्क को झकझोरती-सी प्रतीत होगी। इस पुस्तक में जहाँ एक ओर विशुद्ध हिंदी की रचनाएँ आपके मन में पैठ जमाती लक्षित होंगी, वहीं दूसरी ओर उर्दू के कुछ ख़याल भी अपना जादू बिखेरते नज़र आएँगे। काव्य प्रभा में स्थापित साहित्यकारों के साथ-साथ नवोदित रचनाकार भी आपको अपनी साहित्य सुरभि की मोहक बयार से सहलाएँगे। ‘काव्य प्रभा’ के सभी रचनाकार साहित्य रूपी सागर के उन अनमोल मोतियों की तरह है जिनकी तलाश हर साहित्य प्रेमी को होती है। उम्मीद है इन्हें पढ़कर साहित्य रसिकों की साहित्य पिपासा अवश्य ही शांत होगी।

Book Information’s

Editor
ISBN
978-9387856271
Language
Hindi
Pages
172
Binding
Paperback
Genre
Poetry
Publish On
August, 2020
Publisher

About the Authors

‘काव्य प्रभा’ काव्य संकलन में देशभर से युवा कवियों और वरिष्ठ कवियों, साहित्यकारों ने भी अपना अमूल्य सहयोग दिया है। काव्य संकलन में प्रतिभाग करने वाले कवियों के नाम निम्न हैं-

prachi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here